Hindi love Shayari

Posted by- Gaurav Yadav 11 Aug , 2017 Views 186 Urdu Shayari

ये रिहाई भी क्या कोई रिहाई है,सितमगर,
परिंदा आज़ाद भी किया,पंख कतरने की शर्त पर...